Posts

Showing posts from August 30, 2015

बाँझ ( लघुकथा)

राजकुमारी के पाँव आज जमीन पर धरे नहीं धरा रहे थे । क्या करे ...किधर जाए ।..कभी सोहर गानेवालियों पर रूपए न्योछावर कर रही थी। कभी महाराज जी को नमक, हरदी दे रही थी। इधर से मुहबोली छोटकी ननदिया उससे हँसी कर रही थी तो उधर बगल की अम्मा जी अछ्वानी बनाने के लिए गुड मांग रही थी ।

..और बीच-बीच में राजकुमारी की नज़रे ‘उनपर’ भी टिक जाती। ...आज कितने वर्षों बाद उन्हें खुश देखा। ...एकदम निश्चिंत।कनपट्टी की सफ़ेद रेखाएं भी आज नहीं दिख रही थी। असमय उग आयी झुर्रियां अचानक से कम हो गयी थी। आखिर विवाह के बीस साल बाद दोनों को औलाद का सुख मिला और जैसे जीवन ही बदल गया।
सोच रही थी राजकुमारी ।सोलह साल की उम्र में उसका विवाह छोटन से हुआ था ।छोटा परिवार था छोटन का ।दो भाईयोंवाला।बड़े भाई की शादी हो चुकी थी ।उसके तीन बेटे थे। छोटन का विवाह भी धूमधाम से हुआ। राजकुमारी घर में आयी ।.शुरू के साल तो भाप जैसे उड़ गए।पर जैसे-जैसे दिन बीतने लगे, बाते होने लगी ।पहले दबी जुबान से, फिर एकदम सामने से । निरबंस...बाँझिन...कोख खानेवाली जैसे ताने से शुरुआत होती, मार-पीट पर ख़त्म होती । गालियाँ तो एकदम आम थी। छोटन सब देखता...शुरू म…