जाड़े की धूप
















(चंद पंक्तिया ) 

कुनमुनाई
अलस सुबह की
ठिठुरी धूप
*****
कुहरा घना
स्तब्ध पवन
सिकुड़ी धूप
*****
सूरज हंसा
अंगडाई लेकर
निखरी धूप
*****
अनमनी सी
खड़ी क्षितिज पर
विरही धूप
............स्वयंबरा 

Comments

Popular posts from this blog

एक उपेक्षित धरोहर !

डोमकच

मैंने नेत्रदान किया है..और आपने ?