चिमनिया




उग आयी है चिमनिया चारो ओर
गुरुता का गुरुर है इनमे
ये अट्टाहास लगाती है
छिन लेती हैं मिट्टी की चिर-परिचित गंध 
सुलगती हैं 
उगलती है गहरा काला कोहरा 
सिकुड़ता जाता है नीला आकाश
और
हवा की साँसे घुटती चली जाती है

Comments

Popular posts from this blog

एक उपेक्षित धरोहर !

सपना ही था

पिता का होना कितना बड़ा संबल है