जिंदगी

जिंदगी
मेरी यारा
न हो उदास ऐसे भी
रंग भरेंगे तुझ में भी
पल भर का इन्तजार है बस

देख न
बूंदें बरस चुकी हैं
धरा भी तृप्त हो चुकी है
खुशबु घुल रही हवाओं में
इंद्रधनुषी रंगत छा चुकी है
--स्वयंबरा

Comments

Popular posts from this blog

किस गांव की बात करते हो जी ?

विश्वविख्यात गणितज्ञ डॉ. वशिष्ठ नारायण सिंह : मिलना एक जिनियस से

एक उपेक्षित धरोहर !