सोन चिरैया





सोन चिरैया,
बन-बन भटके,
कहाँ विराम !!

Comments

Popular posts from this blog

एक उपेक्षित धरोहर !

सपना ही था

पिता का होना कितना बड़ा संबल है