मैं और मेरी दुनिया

एक मुसाफिर के सफ़र जैसी है सबकी दुनिया

Wednesday, February 22, 2012

सोन चिरैया





सोन चिरैया,
बन-बन भटके,
कहाँ विराम !!

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home