मुँह टेढ़े चाँद

ये तो क्षण मात्र की ही कैद थी...
तुम कहाँ बंधनो में आनेवाले..
तो अब जाओ....
मुझे भी तुम नहीं चाहिए ....
मुंह टेढ़े चाँद😑

(एक झूठ❤☺)
--स्वयंबरा

Comments

JWO V Ranjan said…
Jhoot to haiii....
Par isme ek bedna bhi hai...
Na to us tak pahunch paane ki ...
Aur na hi waisa ban paane ki...

Popular posts from this blog

किस गांव की बात करते हो जी ?

विश्वविख्यात गणितज्ञ डॉ. वशिष्ठ नारायण सिंह : मिलना एक जिनियस से

एक उपेक्षित धरोहर !