आवारगी

परिंदों का उड़ना
महज अपने आकाश को पाना नहीं होता
वो फड़फड़ाते है पंख
लगाते हैं गोल-गोल चक्कर
कि कभी-कभी
बिलावजह की आवारगी भी
जरुरी है यारा
----स्वयंबरा

Comments

Digamber Naswa said…
बहुत खूब ...
सच में जरूरी है ... ये अपने लिए समय निकालना भी तो है ...

Popular posts from this blog

किस गांव की बात करते हो जी ?

विश्वविख्यात गणितज्ञ डॉ. वशिष्ठ नारायण सिंह : मिलना एक जिनियस से

एक उपेक्षित धरोहर !