अकेलेपन का मान

अकेले रहना किसे पसंद
पर जब मज़बूरी ही हो
कि कोई साथ न हो
तो 'एकांत' खुद की तलाश है - कह देना
और अपने एकाकीपन को
उनकी 'सहानुभूति' में बदल जाने से रोक लेना जरुरी होता है
कि अकेलेपन का भी तो 'मान' होता है यारा
-----स्वयंबरा

Comments

Popular posts from this blog

एक उपेक्षित धरोहर !

सपना ही था

पिता का होना कितना बड़ा संबल है